Home Blog

इन तारीखों में जन्मे लोगों को मिलता है बेहद लाभ

आज आपका दिन मिला जुला असर देने वाला रहेगा। कार्यक्षेत्र और व्यापार में वातावरण आपके अनुकूल कम ही रहेगा। नई योजनाओं पर कार्य आरंभ न करें। जोखिमभरे मामलों में निर्णय फिलहाल टाल दें। बनते हुए कार्यों में बाधाएं आ सकती हैं। व्यापारिक प्रतिस्पर्धा की स्थिति से दूर रहें। विरोधियों से सावधान रहें। विवादों की स्थिति से दूर रहें। भविष्य को लेकर आशंका बनी रहेगी। मानसिक तनाव आपको परेशान कर सकता है। वाहन के प्रयोग में सावधानी बरतें।

मूलांक-2 आज आपका दिन खुशनुमा रहेगा। कार्यक्षेत्र और व्यापार में वातावरण आपके अनुकूल रहेगा। नई योजनाओं पर कार्य आरंभ कर सकते हैं। व्यापार में लाभ के अवसर सामने आएंगे। व्यापारिक प्रतिस्पर्धा की स्थिति से दूर रहें। संतान पक्ष से शुभ समाचार की प्राप्ति हो सकती है। पुराने मित्रों से मुलाकात संभव है। पेट के रोग आपको परेशान कर सकते हैं। खानपान पर नियंत्रण रखें। परिवार का सहयोग मिलेगा। दांपत्य जीवन में मधुरता रहेगी।

इन तीन लोगों के जीवन में आती हैं ढेरों खुशियां

जिन लोगों का जन्म किसी भी महीने की 3, 12, 21 या 30 तारीख को होता है उनका मूलांक 3 होता है। मूलांक 3 का प्रतिनिधि ग्रह बृहस्पति यानी गुरु ग्रह है। इस मूलांक वाले लोगों पर इस ग्रह का प्रभाव सबसे अधिक देखने को मिलता है। इनका झुकाव धर्म और आध्यात्म की ओर अधिक रहता है।

मेघनाद ने हनुमान जी पर चलाया ब्रह्मास्त्र, कैसे बचे थे पवनपुत्र

हनुमान जी माता सीता की खोज में लंका पहुंचे थे। उन्होंने देवी को काफी खोजा, लेकिन सफलता नहीं मिली तो वे निराश हो गए। तब विभीषण ने उन्हें माता सीता के बारे में बताया। तब पवनपुत्र अशोक वाटिका पहुंचे। उन्होंने प्रभु श्रीराम का संदेश देवी को सुनाया। इसके बाद हनुमान जी को भूख लगी तो वे अशोक वाटिका के फल तोड़कर खाने लगे। इतने बड़े वानर को देख पहरेदारों ने इसकी जानकारी रावण को दी। रावण ने अपने पुत्र अक्षय को बजरंगबली को बंदी बनाने के लिए भेजा, लेकिन हनुमान ने उसका वध कर दिया। फिर मेघनाद हनुमानजी को पकड़ने आया। उसने ब्रह्मास्त्र का प्रयोग किया। वरदान के कारण राम भक्त को कुछ नहीं हो सकता था, लेकिन ब्रह्मा का अस्त्र होने के कारण हनुमानजी खुद उसके बंधनों में बंध गए।

शुरू हो रही है गुप्त नवरात्रि, जाने क्या है घट स्थापना का समय पूजा विधि और महत्व!

हिंदू पंचांग के अनुसार साल में कुल 4 बार नवरात्रि का पर्व पड़ता है. इसमें से दो बार गुप्त नवरात्रि आती है. एक माघ की , दूसरी आषाढ़ के महीने में. गुप्त नवरात्रि में 10 महाविद्याओं की पूजा की जाती है इस नवरात्रि को तंत्र साधना के लिए सबसे उत्तम माना गया है. आषाढ़ का महीना 15 जून से शुरू हो चुका है इस माह में पढ़ने वाली गुप्त नवरात्रि 30 जून से शुरू होगी और इसका समापन 9 जुलाई को होगाl आइए जानते हैं गुप्त नवरात्रि का महत्व और घट स्थापना का समय अन्य एवं अन्य जानकारियों के बारे मेंl

बरसात में भीग गया आपका स्मार्टफोन? तुरंत अपना लें ये टिप्स ‘

बारिश के मौसम की शुरुआत हो चुकी है। कभी भी, किसी भी समय बारिश हो जाती है। बारिश में फोन को बचाने के कई लोग पाउच या पन्नी का भी इस्तेमाल कर लेते हैं। ऐसे में सबसे ज्यादा टेंशन तब बढ़ जाती है जब सेफ्टी के बाद भी स्मार्टफोन गीला हो जाता है। भिगने के बाद फोन के खराब होने का चांस ज्यादा बढ़ जाता है। ऐसे में अगर कुछ टिप्स को अपना लिया जाए तो शायद फोन को खराब होने से बचाया जा सकता है। आइए आपको उन टिप्स के बारे में बताते हैं जिससे फोन में पानी जाने से उसे आसानी से ठीक किया जा सकता है।

तुरंत करें ऑफ- स्मार्टफोन अगर पानी से भीग जाता है या उसमें पानी चला जाता है तो शॉट सर्किट होने की संभावना बनी रहती है। ऐसे में फोन में कुछ भी छेड़-छाड़ न करें और तुरंत उसे स्विच ऑफ कर दें।

बैटरी निकाल दें- फोन गीला होने पर बैटरी बाहर निकाल दें। इससे फोन का पावर कट हो जाता है। हालांकि, फोन नॉन रिमूवेबल बैटरी के साथ है तो समझदारी इसी में है कि उसे स्विच ऑफ कर दें। ऐसे में शोर्ट सर्केट का खतरा कम रहता है।

जानिए कम कीमत वाले Best Bluetooth Speakers के बारे में

सोनी का यह ब्लूटूथ स्पीकर ब्लैक, ब्लू, पिंक और taupe कलर में आता है। यह 3,489 रुपये की कीमत में मिल रहा है। यह 13 W का स्पीकर है। कंपनी ने इसे वॉटरप्रूफ और डस्टप्रूफ बनाया है। इसमें सोनी का लोकप्रिय फीचर Extra Bass भी दिया गया है,जिससे स्पीकर की साउंड क्वालिटी बेहतरीन मिलती है। कंपनी अनुसार इसकी 16 घंटे की बैटरी लाइफ है। इसमें इनबिल्ट माइक भी लगा हुआ है,जिससे स्पीकर के जरिये आप बात भी कर सकते हैं।

Yamaha NMax 155 में मिलेगा ट्रैक्शन कंट्रोल सिस्टम, जानें भारत में कब होगी लॉन्च

बाइक्स की बड़ी कंपनी Yamaha ने हाल ही में अपडेटेड NMax 155 स्कूटर को विदेशी बाजार में लॉन्च किया है, जो Aerox 155 बेस्ड है। भारतीय बाजार में Aerox 155 की सफलता को ध्यान में रखते हुए Yamaha Motor India पारंपरिक रूप से NMax 155 मैक्सी-स्कूटर को इंडियन मार्केट में पेश होने के लिए तैयार है।

फीचर्स

फीचर्स की बात करें तो, इसमें ट्रैक्शन कंट्रोल सिस्टम दिया गया है, जो R15 V4 से लिया गया है। क्योंकि वे दोनों एक ही इंजन साझा करते हैं। सेफ्टी के लिहाज से भी ये गाड़ी बेहतर है। नई Yamaha NMax में LED हेडलैंप के साथ ट्विन लो बीम चेंबर्स के साथ LED DRLs हैं और हाई बीम के लिए अलग हाउसिंग है। NMax में MyRide ऐप की कार्यक्षमता के साथ-साथ आपके स्मार्टफोन पर बैटरी स्तर के अलावा ईमेल, कॉल और टेक्स्ट अलर्ट प्रदर्शित करने वाली ब्लूटूथ कनेक्टिविटी के साथ एक पूरी तरह से डिजिटल इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर भी मिलता है।

इस बड़ी कंपनी ने अपनी गाडी में किया बड़ा बदलाव, उपकरणों की कमी के चलते लिया फैसला

महिंद्रा थार के करीब 40,000 – 50,000 आर्डर पेंडिंग है और ऐसे में कंपनी इसे पूरा करने में सक्षम नहीं है। ऐसे में महिंद्रा ने उपकरणों में कटौती करने का फैसला किया क्योकि उपकरणों की भी कमी चल रही है। इसके साथ ही रा मटेरियल की कीमत व ट्रांसपोर्टेशन की कीमत में वृद्धि हुई है, ऐसे में कीमत को कम रखने के लिए कंपनी ने यह कदम उठाया है।

खतरे में आई उद्धव सरकार की कुर्सी, बीजेपी नेता बोले- ठाकरे सरकार की उल्टी गिनती शुरु

सरकार बनने के ढाई साल बाद से ही उद्धव सरकार की कुर्सी पर खतरे में आ गई है। ख़बरों के मुताबिक़ शिवसेना नेता और मंत्री एकनाथ शिंदे पार्टी से नाराज हो गए हैं और वे 25 से ज्यादा विधायकों के साथ एक गुजरात पहुंचे हैं जहां वे सूरत के एक होटल में ठहरे हुए हैं। उनके साथ में सरकार के तीन मंत्रियों के होने की भी बात सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि एकनाथ शिंदे उद्धव ठाकरे का फोन भी नहीं उठा रहे हैं, जिससे माना ये जा रहा है कि सरकार में बड़ा उलटफेर हो सकता है। इसके बाद सीएम उद्धव ठाकरे ने एक आपात बैठक बुलाई है। एकनाथ शिंदे कल रात से ही शिवसेना के सम्पर्क में नहीं हैं।

महाराष्ट्र में सियासी संकट को उबारने में संकटमोचक बन पाएंगे कमलनाथ?

महाराष्ट्र में सियासी संकट गहराया हुआ है। कल देर रात से ही शिवसेना नेता और मंत्री एकनाथ शिंदे 29 विधायकों के साथ सूरत के होटल में रुके हुए हैं और बताया जा रहा था कि वे सीएम उद्धव का भी फोन नहीं उठा रहे हैं। वहीँ बताया जा रहा है कि उसमे से 10 विधायक कांग्रेस के भी हैं जिससे कांग्रेस में भी हलचल मची हुई है।

ऐसे में कांग्रेस ने मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम कमलनाथ को महाराष्ट्र का पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया है। इसके लिए आदेश भी जारी कर दिया गया है। बता दें जिस स्थिति को संभालने कमलनाथ को ये जिम्मेदारी दी गई है वो वाक्या उनके साथ साल 2020 में भी हो चुका है। कमलनाथ जब मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री थे उस समय एमपी में भी यही हाल था जब ज्योतिरादित्य सिंधिया बागी हो गए थे और कई विधायकों को लेकर एक रिजॉर्ट में रुके थे। उन्हें मनाने की जिम्मेदारी उस समय दिग्विजय सिंह को दी गई थी लेकिन अंत में नतीजा ये रहा था कि कमलनाथ को अपने सीएम पद से इस्तीफ़ा देना पड़ा था।

अब देखना यह होगा कीं जब यही सियासी संकट महाराष्ट्र में है तब क्या कमलनाथ सियासी संकट को उबारने में संकटमोचक साबित हो पाएंगे?